Sunday, September 26, 2021

लॉकडाउन के कारण MLA की अंतरात्मा भी परेशान, जैसलमेर के सूर्यागढ़ किले से जांबाज रिपोर्टर की खास बातचीत…

Must read

रिपोर्टर सुबह उठते ही सीधे जैसलमेर के सूर्यागढ़ किले की दीवार पर पहुंच गया। जांबाज जो है। उसे किसी विधायक की अंतरात्मा की तलाश थी। जैसे ही एक अंतरात्मा टेलीफोन पर बात करने के लिए किले में बने पांच सितारा होटल के लॉन में आई, रिपोर्टर सुरक्षाकर्मियों को धता बताकर लॉन में उतर गया। रिपोर्टर को यूं देखकर अंतरात्मा हकबका गई – हट बे, हट कौन हैं?

A. Jayjeet

रिपोर्टर : घबराइए नहीं अंतरात्मा जी, मैं रिपोर्टर हूं, बस आपसे बात करने आया हूं।

अंतरात्मा : पर ऐसे आते हैं भला? मैं फोन पर प्राइवेट बात कर रही थी और तुम अचानक आ गए तो खटका हुआ कि कहीं हाईकमान का ड्रोन तो ना टपक पड़ा! जगह-जगह ड्रोन तैनात कर रखे हैं।

रिपोर्टर : हम भी क्या करें। अब आप अंतरात्माओं पर इतने पहरे बिठा दिए गए हैं तो ऐसे ही आना पड़ता है।

अंतरात्मा : अच्छा ठीक है, वहां नाश्ता लगा है। एक से बढ़कर एक ड्रायफ्रूट्स हैं, और न जानें कहां-कहां के फल-मिठाई वगैरह रखी हैं। पहले वो कर लो।

रिपोर्टर : नहीं जी। नाश्ता तो मैं करके ही आया हूं…

अंतरात्मा : देखिए, अंतरात्मा हूं, इसलिए मुझसे तो झूठ मत बोलो… लॉकडाउन के कारण मुझे मालूम है हर जगह हालात खराब है। अब हमारी ही हालत देख लो …

रिपोर्टर : लेकिन आपको क्या दिक्कत है?

अंतरात्मा : अब क्या बताएं, सामने वाली पार्टी 25 करोड़ से ऊपर जा ही नहीं रही… उसी को लेकर मैं आगे की बात कर रही थी कि तुम टपक पड़े..

रिपोर्टर : एक अंतरात्मा के लिए 25 करोड़ तो काफी होते हैं।

अंतरात्मा : नहीं जी, वही तो तुम्हें समझाने की कोशिश कर रही थी। इतना खराब समय आ गया है कि क्या बताएं… वे 25 में एक नहीं, वे दो अंतरात्माओं का सौदा करना चाहते हैं – ‘बाय वन गेट वन’ । लेकिन 25 में कैसे काम चलेगा। मैंने 30 में एक और अंतरात्मा को साथ लाने का ऑफर दिया है, लेकिन स्साले कह रहे हैं लॉकडाउन की वजह से मार्केट बैठा हुआ है। अरे तुम्हारा मार्केट डाउन होगा तो होगा, हम अंतरात्माओं की भी कोई इज्जत है कि नहीं…

रिपोर्टर : हां वो तो सही है। अब आगे क्या प्लानिंग है?

अंतरात्मा : पहले तुम इधर तो आओ, ये नमकीन ड्रायफ्रूट्स खाओ तो सही। आज तक खाए नहीं होंगे।

(रिपोर्टर के मुंह में जबरदस्ती नमकीन ड्रायफ्रूट्स ठूंसने के बाद….)

अंतरात्मा : देखो, अब मैं 100 करोड़ में 10 अंतरात्माओं को एक साथ लाने का एकमुश्त ऑफर दे रही हूं। 25 करोड़ मेरे, और बाकी 75 छोटी अंतरात्माएं आपस में बांट लेंगी।

रिपोर्टर : अरे वाह, यह तो ब्रेकिंग न्यूज है। धन्यवाद इसके लिए।

अंतरात्मा : ओए रिपोर्टर की औलाद। तेरे को नमकीन ड्रायफ्रूट्स किसलिए खिलाए कि तू ऐसी नमक हरामी करेगा…?

रिपोर्टर : पर अंतरात्मा जी, नमक हरामी आप भी तो कर रही है। जिस पार्टी से जीती, उसके साथ नमकहरामी..

अंतरात्मा : भाई, हम विधायक की अंतरात्मा है, हमारी जो मर्जी है हम करेगी। नमक हरामी करना तो हमारा जन्मसिद्ध अधिकार है। विधायक की अंतरात्मा पैदा ही होती है नमक हरामी के लिए… पर तू मत करना, तू सच्चा रिपोर्टर है, हां …

- Advertisement -spot_img

More articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -

Latest article