Sunday, September 26, 2021

सुरजेवाला का बाउंसर : लॉकडाउन में ‘कोरोना की बजाय ‘शराब-रजिस्ट्री घोटाले’ का खेल खेला गया

Must read

चंडीगढ़। कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सिंह सुरजेवाला ने आरोप लगाया है कि खट्टर सरकार में ‘घोटाले पर घोटाले’ का अंबार लग गया है। नित नए उजागर हो रहे घोटालों ने खट्टर सरकार की विश्वसनीयता पर प्रश्नचिन्ह खड़ा कर दिया है। खट्टर सरकार के 6 वर्षों में घोटालों की एक लंबी सूची है – धान खरीद घोटाला पार्ट1, धान खरीद घोटाला पार्ट 2, अरावली लैंड यूज़ घोटाला, यमुना खनन घोटाला, ओवरलोडिंग घोटाला, रोडवेज़ किलोमीटर स्कीम घोटाला, HSSC भर्ती घोटाला, पेपरलीक घोटाला, HTET घोटाला, गीता जयंती घोटाला, छात्रवृत्ति घोटाला, बिजली मीटर घोटाला, शराब घोटाला और अब रजिस्ट्री घोटाला। उन्होंने कहा कि 21 जुलाई को खट्टर सरकार ने एक चौंकानेवाला आदेश जारी कर पूरे हरियाणा में 26 दिन के लिए रजिस्ट्रियों पर रोक लगा दी। सार्वजनिक तौर से यह उभर कर सामने आया है कि असल में यह रोक गुड़गांव, सोनीपत, फरीदाबाद यानी दिल्ली NCR में हुई नाजायज संपत्ति पंजीकरण की शिकायतों को लेकर आनन फानन में लगाई गई है। आदेश में तो आईटी अपग्रेडेशन का हवाला दिया गया पर लॉकडाऊन का फायदा उठा भूमाफिया द्वारा दिल्ली NCR की जमीन में अवैध कॉलोनियां काट रजिस्ट्रियां और कन्वेयंस डीड करवाने के नाजायज खेल व भारी अनियमितताओं को इसका असली कारण बताया जा रहा है। इस घोटाले का आंकलन 1,000 करोड़ रुपया किया गया है। सार्वजनिक पटल पर उपलब्ध सूचना में यह भी सामने आया है कि इस गड़बड़झाले में सरकार में उच्च पदों पर बैठे व्यक्तियों और अफसरों का सीधा सीधा हाथ है। गुड़गांवा, फरीदाबाद, सोनीपत आदि से बड़ी संख्या में इस बारे शिकायत सामने आई है। याद रहे कि कोरोना लॉकडाउन के समय इसी प्रकार एक बहुत बड़ा शराब घोटाला हुआ। यहां तक कि आबकारी एवं कराधान विभाग की आंतरिक जांच में एक करोड़ शराब-बीयर इत्यादि की बोतलों का सीधे सीधे घालमेल पाया गया। शराब माफिया ने खूब चांदी कूटी और सरकार के खजाने को चूना लगाया। मुख्यमंत्री ने 15 दिन में जाँच संपूर्ण करने का वादा किया पर हुआ वही ढाक के तीन पात। जांच को पचड़े में डाल दिया गया।

सुरजेवाला ने हरियाणा सरकार से पूछे पांच सवाल

सुरजेवाला ने आरोप लगाया कि रजिस्ट्री घोटाले में तो मुख्यमंत्री, श्री मनोहर लाल खट्टर ने आज तक जाँच के बारे एक शब्द तक नहीं कहा। हमारे खट्टर सरकार से पाँच सवाल हैं:-

1. क्या खट्टर सरकार को भूमाफिया द्वारा लॉकडाऊन की अवधि में किए गए रजिस्ट्री घोटाले की जानकारी है? यदि हां, तो इसे सार्वजनिक क्यों नहीं किया जा रहा?

2. क्या रजिस्ट्री घोटाले में सरकार में बैठे लोगों व चहेते अधिकारियों का सीधा सीधा हाथ है? यदि हां, तो उनके नाम व चेहरे उजागर क्यों नहीं किए जा रहे?

3. क्या अवैध कॉलोनियां काटने, नाजायज रजिस्ट्री व कन्वेयंस डीड करने, सरकार के खजाने को चूना लगाने के बारे अनेकों शिकायतें खट्टर सरकार के पास हैं? यदि हां, तो उन्हें जनता के समक्ष रख दोषियों को बेनकाब क्यों नहीं किया जा रहा?

4. क्या खट्टर सरकार ‘रजिस्ट्री घोटाले’ की हाई कोर्ट के सिटिंग जज से जाँच करवाएगी?

5. क्या मुख्यमंत्री, श्री मनोहर लाल खट्टर सामने आकर सारे तथ्य हरियाणा की जनता से साझा करेंगे या फिर शराब घोटाले की जाँच की तरह इस घोटाले को भी ठंडे बस्ते में डाल दिया जाएगा?

- Advertisement -spot_img

More articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -

Latest article