Saturday, October 23, 2021

वीडियो: कार्बेट के बाघ की दहाड़ से गूंजेंगे राजाजी राष्ट्रीय उद्यान के जंगल

Must read

अथहर महमूद सिद्दिकी

कालागढ़। कार्बेट राष्ट्रीय उद्यान के बाघ की दहाड़ से राजाजी राष्ट्रीय उद्यान के जंगल गूंजेगें। कार्बेट के वनो से पांच बाघ राजाजी राष्ट्रीय उद्यान भेजे जाएंगे। राजाजी राष्ट्रीय उद्यान व भारतीय वन्यजीव संस्थान के अधिकारी व वैज्ञानिक कालागढ़ पहुंच गए हैं।

अब कार्बेट टाइगर रिजर्व/राष्ट्रीय उद्यान के बाघ की दहाड़ से राजाजी राष्ट्रीय उद्यान के वन गूंजने वाले हैं। कालागढ़ के वनों के बाघ की आवाज अब राजाजी में भी सुनी जा सकेगी। राजाजी राष्ट्रीय उद्यान के वन बिजनौर,कोटद्वार व लैंसडान के वन से लगे हैं।राजाजी राष्ट्रीय उद्यान में बाघो की कमी को पूरा करने के लिए राष्ट्रीय बाघ संरक्षण प्राधिकरण ने गंभीरता से लिया है। ईसके लिए कार्बेट राष्ट्रीय उद्यान से पांच बाघ राजाजी राष्ट्रीय उद्यान भेजे जाने पर सहमति जता दी है। राजाजी राष्ट्रीय उद्यान, देहरादून के भारजीय वन्यजीव संस्थान के अधिकारी व वैज्ञानिक बाघों के प्राकृतावास व भौगोलिक स्थिति का जायजा लेने कालागढ़ पहुंच गए हैं। कालागढ़ के वनविश्रमागृह में कार्बेट टाइगर रिजर्व के कालागढ़ के उपप्रभागीय वनाधिकारी कुंदन सिंह खाती से टीम ने विचार विर्मश किया।राजाजी राष्ट्रीय उद्यान के पार्क वार्डन कोमल सिंह, कार्बेट टारगर रिजर्व के डा. दुष्यंत कुमार व अन्य अधिकारी मौजूद रहे। कुंदन सिंह खाती ने बताया कि टीम कालागढ़ से ढेला, लालढांग व रामनगर तराई पश्चिम के टेड़ा क्षेत्र में भ्रमण कर जानकारी लेगी। अक्तूबर माह में दो बाघ यहां से राजाजी राष्ट्रीय उद्यान भेजे जाएंगे। कार्बेट टाइगर रिजर्व/राष्ट्रीय उद्यान के निदेशक राहुल ने बताया कि राजाजी राष्ट्रीय उद्यान के पश्चिमी भाग में बाघ की कमी हो गई है। जिसकी वजह से वहां बाघों की जनसंख्या बढ़ नही पा रही है। इस लिए कार्बेट टाइगर रिजर्व/राष्ट्रीय उद्यान से दो बाघिन व तीन बाघ राजाजी भेजे जाने पर सहमति बनी है। वन विभाग के अधिकारी इस पर विचार विर्मश कर रहे हैं।

उप्र कृषि विश्वविद्यालयों के स्नातक युवाओं से प्रियंका की वीडियो कांफ्रेंसिंग

लखनऊ। अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी की प्रभारी राष्ट्रीय महासचिव प्रियंका गांधी ने उप्र के सभी कृषि विश्वविद्यालयों के कृषि स्नातक युवाओं के समूह से बातचीत की। महासचिव प्रियंका गांधी से बातचीत में युवाओं ने अपना दर्द साझा किया। कृषि स्नातकों ने अपनी बात करते हुए महासचिव प्रियंका गांधी से युवाओं ने कहा कि कृषि स्नातक छात्र और छात्राएं मजदूरी करने को बाध्य हो गए हैं। गौरतलब है कि 50,000 से अधिक कृषि स्नातक सरकार की युवा विरोधी नीतियों के शिकार हुए हैं। महासचिव प्रियंका गांधी से संवाद में आचार्य नरेन्द्रदेव कृषि विवि, चंद्रशेखर आजाद कृषि विश्वविद्यालय, सरदार पटेल कृषि विवि मेरठ, इलाहाबाद कृषि विवि के स्नातक युवाओं ने हिस्सा लिया। महासचिव से बातचीत में अपना दर्द साझा करते हुए युवाओं ने कहा कि भाजपा सरकार में कोई कृषि विभाग की भर्ती नहीं आ रही है जबकि सरकार किसानों की आय दोगुना करने की बात करती है। वीडियो कांफ्रेंसिंग में महासचिव प्रियंका गांधी को युवाओं ने बताया कि एग्रीकल्चर असिस्टेंट(कृषि प्राविधिक) की भर्ती परीक्षा का परिणाम डेढ़ साल से रुका हुआ है, क्या चल किसी को पता नहीं। कृषि विज्ञान में स्नातक करने के बाद दर दर भटकने को मजबूर युवाओं ने महासचिव से कहा कि कृषि विभाग के 75 फीसदी पद खाली हैं। लेकिन सरकार कोई भर्ती नहीं ला रही है। कांग्रेस सरकार द्वारा कृषि स्नातक युवाओं को ऋण देने की योजना को भी युवा विरोधी सरकार ने बंद कर दिया है। महासचिव प्रियंका गांधी ने कहा कि यूपी में युवाओं का भविष्य सरकार ने अंधकारमय कर दिया है। ऐसा लगता है कि सरकार युवाओं के प्रति गैर जिम्मेदार है। महासचिव ने युवाओं से कहा कि यह न्याय की लड़ाई है, इसमें कांग्रेस पार्टी युवाओं के साथ खड़ी है।

- Advertisement -spot_img

More articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -

Latest article